रविवार, 7 फ़रवरी 2016

खामोश लम्हे ......

कुछ खामोश लम्हे .....
मैंने अपने पहलु में
सी लिए हैं   
डरती हूँ ....
उड़ न जाए 
ये खामोश लम्हे 
कहीं 
दिख न जाएँ 
ये खामोश लम्हे .....
मुझसे तो 
कुछ कहते नहीं
क्या पता 
तुमसे ही 
सब कह जाए 
ये खामोश लम्हे ......

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

बिम्ब

एक शब्द लिखकर सैंकड़ों बिम्ब देखोगे? लिखो.... "प्रेम" मैं चुप थी पर चुप्पी कभी नहीं थी मेरे पास अब बस चुटकी सा दिन बचा है । अप...