शनिवार, 13 फ़रवरी 2016

मुद्दतों बाद .....

मुद्दतों बाद 
आज फिर उसी वादी से 
गुजरे हैं हम  
यादों का धुंआ उभरा 
कि कुछ और 
निखरे हैं हम
 इक झोंका 
लिपट गया हम से 
कि बस दो पल 
ठहरे हैं हम 
बड़ी मुश्किल से 
संभले हुए थे
की आज फिर 
बिखरे हैं हम 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...