शनिवार, 6 फ़रवरी 2016

इक बूँद .....

यादों की .....इक छोटी सी बूँद
एहसासों का .....रुका समुन्दर
कभी सुखा जाती है .....
कभी बस भीगा जाती है  ....
इक बूँद याद...... काफी है
इक बूँद याद .....बहुत है    
मेरे लिए .......

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैं लिखना नहीं जानती ...

सही कहते हो ...... मैं लिखना नहीं जानती  मैं तो सिर्फ पीना जानती हूँ ... कुछ समुन्दर खारा सा  कुछ अँधेरा उतारा सा अपने शब्दों के straw से क...