शुक्रवार, 5 फ़रवरी 2016

आकाश.....

सिर्फ 
और सिर्फ .... तुम 
"आकाश" हो 
मुझ पर रुके हुए 
मुझ तक झुके हुए  
बाकी सब तो "मौसम" हैं 
करवट लेते हुए  
सलवट देते हुए  

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

पूर्ण विराम

रुकने के लिए मेरे पास पूर्ण विराम भी था पर तुम ज्यादा पूर्ण थे....मेरे विराम के लिए।