मंगलवार, 9 फ़रवरी 2016

खेल.....

अपने अपने किस्म की......... "गुलामी" हो रही है
कहीं ........खेल खेल में "स्त्री" की
कहीं ....खेल के लिए "पुरुष " की नीलामी हो रही है

2 टिप्‍पणियां:

सादगी

सादी सी बात सादगी से कहो न यार ....   जाने क्या क्या मिला रहे ..... फूल पत्ते   मौसम बहार सूरज चाँद रेत समंदर दिल दिमाग स...