रविवार, 7 फ़रवरी 2016

टीस.....

बात आएगी समझ में , न यूं समझाने से  
नाप कर देख , इश्क अपना  ,मेरे पैमाने से 
 
गुज़रना है तो , मुहब्बत में गुज़र जा
 इक यही इल्तिज़ा , रहेगी ज़माने से

कितना मायूस बैठा है , चाँद फर्श पर 
अब किसी तोर बहलता नहीं , बहलाने से
 
उम्र भर रहेगी , इक टीस दिल पर 
घाव हल्का ,पर लगा खंजर पुराने से

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...