मंगलवार, 9 फ़रवरी 2016

रोज़ की ज़िन्दगी ......राज़ की ज़िन्दगी

हाई हील्स सैंडल्स में  .....संभल संभल कर चलती हो तो.... "राज़"वाली लगती हो .......  ज़िन्दगी
सपाट सरपट संग संग दौड़ती हो तो .....
"रोज़" वाली लगती हो ज़िन्दगी  

रोज़ की ज़िन्दगी ......राज़ की ज़िन्दगी
संग ......ज़िन्दगी
संभल..... ज़िन्दगी

http://mukharkalpana.blogspot.com/

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

हमेशा....

तुमने हर बार मुझे कम दिया और मैंने हर बार उससे भी कम तुमसे लिया। ना तुम कभी ख़ाली हुए .... ना मैं कभी पूरी हुई। हम यूँ ही बने रहें....हमेश...