Follow by Email

शनिवार, 13 फ़रवरी 2016

ढाई आखर ......

       बस ढाई आखर ......
        कुछ नैनों से बहे 
        कुछ होठों ने कहे 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें