बुधवार, 3 फ़रवरी 2016

अधखिले फूलों की दर्दीली दुनिया .........

अधखिले फूलों की 
दर्दीली दुनिया 
सड़क पर पलते 
कई सारे छोटू 
और ढेर सारी मुनिया

आसमान और खिलौना 
एक सा लगता ,
देखते बस दूर से 
बस कोई छू नहीं सकता

खरोंच लगे या घाव गहरा 
अब फर्क नहीं पड़ता ,
मासूमियत नुच गयी है 
शरीर हो गया सस्ता

सूखी रोटी और जूठन 
अब और कुछ नहीं पचता ,
स्वाद और भूख का 
भला आपस में क्या रिश्ता ?

जन्मा सड़क पर 
कूड़े पर पला 
सड़क पर जी जाता ,
ये कैसा अजब फूल है 
जो सूखे दरख्तों पर भी 
पनप जाता ?

बेबस ,बेघर ,बेनाम बचपन 
बेहिसाब तरसता ,
जाले तक़दीर में हों तो 
रोशन जहां क्या मायने रखता ?

मासूम चेहरे ,थोड़े मटमैले 
दिल तो इंसानी ही धड़कता ,
फिर क्यों इंसानियत का ज़ोर
इनके लिए नहीं चलता ?

सड़क पर इन अधखिले 
फूलों को देख 
कल्पना का प्रश्न 
हर बार उठता ,
इन मायूस फूलों को 
बोने से पहले 
हे भगवान् 
तेरा दिल क्यों नहीं दहलता ?

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अद्धभुत हूँ मैं

खूबसूरत नहीं हूँ... मैं    हाँ ....अद्धभुत जरूर हूँ   ये सच है कि नैन नक्श के खांचे में कुछ कम रह जाती हूँ हर बार   और जानबूझ करआंकड़े टा...