शनिवार, 13 फ़रवरी 2016

हिंदी.....



ज्ञान ज्योति का दीपक जलाये

मन में आशा का सागर समाये
हिंदी प्यारी हमारी है भाषा 
इसको उन्नत बनाने की आशा 

बढ़ती आयी है बढ़ती रहेगी 
नाम भारत का रोशन करेगी
माँ के माथे की जैसे हो बिंदी 
झिल्मिलाएगीएक दिन ये हिंदी

गांधी नेहरू ने देखा था सपना
राष्ट्रभाषा बने मान अपना
हिंदी बोलेंगे .......हिंदी पढ़ेंगे
आओ मिलके ये प्रण हम करेंगे

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

शुभ रात

सच कहूँ ... तुम्हारे पास मेरे सुकून का बक्सा है। उसमें तुम्हारा कुछ भी नहीं ... बस  कल्पना का सामान भरा हुआ है।कुछ तस्वीरें ,कुछ फिक्र,कुछ प...