शनिवार, 13 फ़रवरी 2016

यादों की पोटली .....

 यादों की पोटली 
 आज फिर टटोली  
 नम आँखों से खोली  
 की तुझसे हंसी ठिठौली 
 मुस्काई हौली हौली
 इक बार और तेरी हो ली 
 इक नयी याद संजोली


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

सादगी

सादी सी बात सादगी से कहो न यार ....   जाने क्या क्या मिला रहे ..... फूल पत्ते   मौसम बहार सूरज चाँद रेत समंदर दिल दिमाग स...