रविवार, 7 फ़रवरी 2016

चाँद....

मुठ्ठी भर आकाश नहीं ,पूरा आसमान लूं
सूरज से उस की , उजाले वाली दुकान लूं
रात , लिखा करूँ , तारों पर अपनी दास्तान  इसलिए, चाँद से वो खाली खाली मकान लूं

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...