रविवार, 7 फ़रवरी 2016

इक रिश्ता ....

नाहक ही मार दिया 
कंकर 
तुमने मेरे वजूद पर 
इक एहसास का 
की जानते हो 
की कुछ भी नहीं 
तुम्हारे लिए 
मेरे पास उजास सा         
   
बेहद अनमोल है
इक रिश्ता 
दोस्ती का .....
 विश्वास का ......
 क्यों शून्य करते हो
देकर स्पर्श आभास का  

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...