शनिवार, 6 फ़रवरी 2016

कलम...

कोरे कागज़ पर ....
लफ्ज़ बिन भी 
कुछ कह रही है ...कलम 
 कुछ ऐसे 
आज़ाद अंदाज़ में 
आज बह रही है ....कलम  

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

बिम्ब

एक शब्द लिखकर सैंकड़ों बिम्ब देखोगे? लिखो.... "प्रेम" मैं चुप थी पर चुप्पी कभी नहीं थी मेरे पास अब बस चुटकी सा दिन बचा है । अप...