रविवार, 7 फ़रवरी 2016

कुछ हाइकू.....

लाल सूरज
माथे पर टिकता
सागर है माँ

कच्ची सी उम्र
वसुधा की विदाई
ज़िद्दी मानव

कोरा कागज़
बिकती रोशनाई
बधिर सच

पराये शब्द
फेसबुकिया कवि
गूंगे लाइक्स

अजब शौक
अपहृत आखर
गुमनाम मैं

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

बिम्ब

एक शब्द लिखकर सैंकड़ों बिम्ब देखोगे? लिखो.... "प्रेम" मैं चुप थी पर चुप्पी कभी नहीं थी मेरे पास अब बस चुटकी सा दिन बचा है । अप...