शनिवार, 6 फ़रवरी 2016

ख्वाब.....

रात .....
ये ख्वाब जुगनू थे 
सुबह .....
तितली से मिले 
रात ....
झिलमिला रहे थे 
सुबह .....
इठलाते मिले
खुश हूँ .....
मेरे ख्वाब रात - दिन 
 सिर्फ मेरे ही आँगन में उड़ते 
सिर्फ मेरे ही पास रहते 
 कभी .....मैं उन्हें छूती 
कभी .....वो मुझे छूते 
कभी .....वो मेरे होते 
कभी .....मैं उनकी होती 





कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...