शनिवार, 13 फ़रवरी 2016

सुध नहीं .......

ज़िन्दगी इस क़द्र मसरूफ हो चली है ......
खुद की भी सुध नहीं  
 इतवार को भी चौंक जाते हैं ......
कहीं आज बुध तो नहीं

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

सादगी

सादी सी बात सादगी से कहो न यार ....   जाने क्या क्या मिला रहे ..... फूल पत्ते   मौसम बहार सूरज चाँद रेत समंदर दिल दिमाग स...