Follow by Email

शुक्रवार, 5 फ़रवरी 2016

शिकवा तो है .......

शिकवा तो है .......
वो अब कुछ भी कहते नहीं .....
रूह में बसा करते थे हम कभी .....
अब लफ़्ज़ों में भी रहते नहीं.....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें