Follow by Email

शुक्रवार, 5 फ़रवरी 2016

ख्वाब....

आज फिर ख्वाब में भी ख्वाब बुनकर देखते हैं 
चलो आज इक बार फिर तुम्हें चुनकर देखते हैं 
 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें