शनिवार, 13 फ़रवरी 2016

अच्छा लगा .....

मुठी भर लम्हों को .....
स्नेह की चाशनी में .....
भिगो कर
हथेलियों में धर देना   
"कॉफ़ी" में .....आज "चीनी " कम है 
कह देना ....… 
अच्छा लगा .....

अच्छा लगा ....
आज बस .....
पास से तुम्हारा 
गुज़र जाना 
 कुछ न कहना 
 बस मेरी आँखों में 
 नज़र आना   
अच्छा लगा ....

अच्छा लगा  ....
मुठी भर लम्हों में .....
आज मिलना ....
घुल जाना 
बस मुझमें.....ज़रा सा
 रह जाना 



कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

शुभ रात

सच कहूँ ... तुम्हारे पास मेरे सुकून का बक्सा है। उसमें तुम्हारा कुछ भी नहीं ... बस  कल्पना का सामान भरा हुआ है।कुछ तस्वीरें ,कुछ फिक्र,कुछ प...