रविवार, 7 फ़रवरी 2016

मुहब्बत....

भूली बिसरी "पीतल" सी उमीदों पर
आज फिरइक बार
अपने नूर का "नमक "छिड़का है
शिकवे -गिलेकी खट्टी "इमली "से
मल मल के खूब रगड़ा है
अब जो खालिस"सोने "सा
चमकानिखरा है
उसका नाम मैंने "मुहब्बत "रखा है 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...