Follow by Email

रविवार, 14 फ़रवरी 2016

इश्क़.....

जो बूँद .....सागर लगे
और ......
जो सागर .....बूँद
बस ....
वही इश्क़ है

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें