शुक्रवार, 5 फ़रवरी 2016

इश्क़ के पत्ते ....

बंद पलकों में ....मखमली एहसास जगा दूं 
यादों का दरख़्त ........इश्क़ के पत्ते उगा दूं  

कायम कर दूं ,ला.....बहार का मौसम  
कुछ पुराने खत ,आ...... तुझको पढ़ा दूं   

रूकने न दूं इश्क ......उम्र की देहलीज़ पर 
संग गुज़रे लम्हे ........कालीन से बिछा दूं

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...