रविवार, 7 फ़रवरी 2016

मोरपंख.......

किताब के सफ़होँ के बीच फड़फड़ाहट कैसी  दिन भर थे चुप .....शाम से सरसराहट कैसी
   यादों का मोरपंख गीला हुआ है अभी अभी
 ये तेरा सा अक्स .....ये तेरी सी आहट कैसी 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...