रविवार, 14 फ़रवरी 2016

मेरा फख्र ....

गर आंसुओं में आवाज़ हुआ करती 
 या उस अर्ज़ में परवाज़ हुआ करती 
तो मेरा फख्र ....
इस मौसम
यूँ ही नहीं सूखता  
उस मौसम
यूँ ही नहीं भीगता

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

सादगी

सादी सी बात सादगी से कहो न यार ....   जाने क्या क्या मिला रहे ..... फूल पत्ते   मौसम बहार सूरज चाँद रेत समंदर दिल दिमाग स...