शुक्रवार, 5 फ़रवरी 2016

बैरी पिया ....

अमूमन ....
रोज़ ही भरती हूँ ....
खुद को .....तुम्हारी गागर में  
बैरी पिया .... 
फर्क बूझ रहे .....
दरिया में …मेरे सागर में  

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैं लिखना नहीं जानती ...

सही कहते हो ...... मैं लिखना नहीं जानती  मैं तो सिर्फ पीना जानती हूँ ... कुछ समुन्दर खारा सा  कुछ अँधेरा उतारा सा अपने शब्दों के straw से क...