Follow by Email

रविवार, 24 जनवरी 2016

वजूद

पाथर सा दिन .....
पाथर सी मैं .....
पथरीली ख्वाइशें ....
पथरीली अजमाइशें....
सखी पथरीली....
परछाई मेरी
और ......
  इक पत्थर .....
  मेरा हमसफ़र ....मेरा वजूद

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें