Follow by Email

शनिवार, 30 जनवरी 2016

किरदार......

दिन गुज़र गया 
लिबास ......बदलते बदलते 
कई किरदार .......बदलते बदलते 
अब तो
 कुछ लम्हे तोड़ लो 
उस मसरूफ ज़िन्दगी से 
और 
मेरे हथेलियों में ......धर दो 
सिर्फ 
तुम्हारे लिए हैं ......कह दो

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें