रविवार, 24 जनवरी 2016

"मोहर ".......

बनना तो मैं ....
जुगनू .....
पाखी ......
और .....वो तितली भी थी
पर उस देहलीज़ को छूते ही ....
"स्त्री "बना दी गयी
वही रंगत ...
वही रौशनी ....
वही मन .....
वही उड़ान .....
सब कुछ आज भी.....
तुम्हारा ही है ........मेरे पास
पर ......"मोहर "लगा हुआ
सुनो .....
तुम्हारे परों पर भी.....
है कोई निशान "स्त्री वाला " ?

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...