Follow by Email

शुक्रवार, 29 जनवरी 2016

आदमी......

रिश्तों को तो रोज़ .....ढोता है आदमी  
फिर क्यों बिछड़कर ....रोता है आदमी  

 दिन भर सपने ..... कौड़ियों में बेचता
 रात फिर इक ख्वाब ..बोता है आदमी 

 चाँद पाकर भी ... उस अर्श को ताकता
 ऐसा भी गरीब .....क्यों होता है आदमी  

मायूसी की चादर ...हौसले का बिछौना  
ओढ़ माँ की दुआ ....फिर सोता है आदमी   

रात की चाह में ......सूरज को निगलता
सब्र चुटकियों में ......यूँ खोता है आदमी

 

15 टिप्‍पणियां:

  1. अज़ीब सी फितरत को पालता हैं उम्र भर
    जिसके लिए हँसता उसी के लिए रोता आदमी

    उत्तर देंहटाएं
  2. अज़ीब सी फितरत को पालता हैं उम्र भर
    जिसके लिए हँसता उसी के लिए रोता आदमी

    उत्तर देंहटाएं
  3. स्तव्ध हूँ ..आज के आदमी का सच यही है 😐

    उत्तर देंहटाएं
  4. स्तव्ध हूँ ..आज के आदमी का सच यही है 😐

    उत्तर देंहटाएं
  5. अपनी फितरत कहाँ भूलता है आदमी .........

    उत्तर देंहटाएं