सोमवार, 25 जनवरी 2016

शब्द.......

ये "शब्द" तो
बड़े सरल से थे
फिर "जुबान" से
निकल कर
"दिल" तक
और दिल से
" दिमाग" तक के
दरमियान
इतने स्वरुप
इतने अर्थ
इतने अभिप्राय
इतने भाव
बदल डाले
की अब
जटिल से
बिलकुल अजनबी
बेमोल
स्वार्थी
और
निहायत ही
खुदगर्ज़
प्रतीत हो रहे हैं

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

हमेशा....

तुमने हर बार मुझे कम दिया और मैंने हर बार उससे भी कम तुमसे लिया। ना तुम कभी ख़ाली हुए .... ना मैं कभी पूरी हुई। हम यूँ ही बने रहें....हमेश...