सोमवार, 25 जनवरी 2016

शब्द.......

ये "शब्द" तो
बड़े सरल से थे
फिर "जुबान" से
निकल कर
"दिल" तक
और दिल से
" दिमाग" तक के
दरमियान
इतने स्वरुप
इतने अर्थ
इतने अभिप्राय
इतने भाव
बदल डाले
की अब
जटिल से
बिलकुल अजनबी
बेमोल
स्वार्थी
और
निहायत ही
खुदगर्ज़
प्रतीत हो रहे हैं

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...