शुक्रवार, 29 जनवरी 2016

आखर से रचना का सफ़र .....

ताउम्र कलम को मशाल सा उठाये रखना 
 इस कल्पना की रोशनाई में डुबाये रखना
फ़िज़ूल हवा नहीं , इक विचार बन कर बहना 
"आखर "से "रचना" का सफ़र बनाये रखना

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मिलन......

भीग जाने के लिए मेरे पास पहाड़ बहुत थे ..... फिर तुम्हारी रेतीली आंखों से मिलना हुआ...