Follow by Email

सोमवार, 1 फ़रवरी 2016

आप....

बेवजह हम अपने लिखे पर नाज़ करते हैं
ये तो "आप" है जो मुझमें आवाज करते हैं

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें