Follow by Email

शुक्रवार, 29 जनवरी 2016

दायरा......

दायरा अपना ......न पूछो ......"चाँद "
बिफर जाओगे !
बस "बिलास्त भर ".....
गर .....हथेलियों में ....
उतर आओगे 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें