शुक्रवार, 29 जनवरी 2016

खुदगर्ज़.......

इक .....बेहद खूबसूरत .....दिल रखिये .....
जिसमे लम्हें क़ैद हों 
लम्स ठहर जाएँ 
लफ्ज़ थमे रहे  ......
सिर्फ अपनी पसंद के.....
 बस ....अपने लिए

क्या मैं ...."खुदगर्ज़" हूँ ?

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

हमेशा....

तुमने हर बार मुझे कम दिया और मैंने हर बार उससे भी कम तुमसे लिया। ना तुम कभी ख़ाली हुए .... ना मैं कभी पूरी हुई। हम यूँ ही बने रहें....हमेश...