Follow by Email

शुक्रवार, 29 जनवरी 2016

ख्वाब.....

कुछ है "हसीं "मुझमें ....
 जो छलता है .....बहुत
" ख्वाब " होगा शायद .....
जो बदलता है .....बहुत

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें