शुक्रवार, 29 जनवरी 2016

दिल की बात ....

वक़्त से न कहूँ .....
तो ...किससे कहूँ दिल की बात ?
इक यही तो जले है मुझ संग ....
सारा सारा दिन 
सारी सारी रात

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Notes.....

Fantasy... One day I will rewrite myself  . Let me be you on this reincarnation  day . Skill.... Love uses its absence to be seen and to...