रविवार, 24 जनवरी 2016

मैं ........

अथाह ......शब्द छोड के गयी थी
जब पिछली बार रुठी थी ...
तुम आज तलक....
" मैं "को .....चुने बैठे हो ......
its okay....
यही कहा था ना तुमने ...
मेरे जाते हुए .....

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...