Follow by Email

शुक्रवार, 29 जनवरी 2016

लहज़ा.......

चख के देखा .....
आज भी ....
तुम्हारे लिखे खतों का ......
ज़ायक़ा वही है......
बस जरा .....
चाश्नी कम .....नमक ज्यादा हुआ  
क्या करूँ ?
बहते .....
गीले .....
सीले......
लफ़्ज़ों का 
अब लहज़ा यही हुआ







कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें