रविवार, 24 जनवरी 2016

तलाश ........



तलाश ........
वो रोज़ मुस्कुराता
संवर कर निकलता है
दिनभर बैचैन भटकता है 
सदियों से निराश डूबता है
जाने क्या ढूँढता है ?
वो क्या तलाशता है ?
मैंने "चाँद "से पूछा .........
बांवरा है ......ये "सूरज"
सच्चा "इश्क" ,सच्चा "ईमान" ढूंढता है
जब थक जाता है
काम पे रात मुझे लगाता है
उमींद कायम है
इस लिए.....
मुस्कुराता पाली बदलने आता है

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...