रविवार, 24 जनवरी 2016

तलाश ........



तलाश ........
वो रोज़ मुस्कुराता
संवर कर निकलता है
दिनभर बैचैन भटकता है 
सदियों से निराश डूबता है
जाने क्या ढूँढता है ?
वो क्या तलाशता है ?
मैंने "चाँद "से पूछा .........
बांवरा है ......ये "सूरज"
सच्चा "इश्क" ,सच्चा "ईमान" ढूंढता है
जब थक जाता है
काम पे रात मुझे लगाता है
उमींद कायम है
इस लिए.....
मुस्कुराता पाली बदलने आता है

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अद्धभुत हूँ मैं

खूबसूरत नहीं हूँ... मैं    हाँ ....अद्धभुत जरूर हूँ   ये सच है कि नैन नक्श के खांचे में कुछ कम रह जाती हूँ हर बार   और जानबूझ करआंकड़े टा...