रविवार, 31 जनवरी 2016

मुकम्मल ख्वाइशें.....

तमाम दिन का सफ़र करके
रोज़ रात ये "ख्वाइशें"
इस उम्मीद के साथ 
मेरी "कोशिशों "के साथ
सो जाती हैं ,
की कल का "सूरज "
उन्हें मुकम्मल मुकाम तक
पहुँचाने वाला है
और .......
हैरत इस बात की है कि
जितनी ख्वाइशें बढ़ती हैं ,
कोशिशें उतना ही
मखमली बिस्तर
उनके लिए बिछाती हैं
और सूरज सजा धजा
तैयार खड़ा रहता है
मेरी मुकम्मल ख्वाइशों की
रोशनाई अपने पर मलने को
"अब तो मुस्कुरा कल्पना ".....कहने को

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैं लिखना नहीं जानती ...

सही कहते हो ...... मैं लिखना नहीं जानती  मैं तो सिर्फ पीना जानती हूँ ... कुछ समुन्दर खारा सा  कुछ अँधेरा उतारा सा अपने शब्दों के straw से क...