रविवार, 24 जनवरी 2016

अंतर्द्वन्द

कई बार...... खंगाल के देखा खुद को
सगरा उलट के रख दिया ....
लो वही घिसा सिक्का .....
लुढ़का इस अंतस के झोले से .....
"अंतर्द्वन्द"

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

बिम्ब

एक शब्द लिखकर सैंकड़ों बिम्ब देखोगे? लिखो.... "प्रेम" मैं चुप थी पर चुप्पी कभी नहीं थी मेरे पास अब बस चुटकी सा दिन बचा है । अप...