Follow by Email

रविवार, 24 जनवरी 2016

अंतर्द्वन्द

कई बार...... खंगाल के देखा खुद को
सगरा उलट के रख दिया ....
लो वही घिसा सिक्का .....
लुढ़का इस अंतस के झोले से .....
"अंतर्द्वन्द"

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें