सोमवार, 1 फ़रवरी 2016

हम उम्र......

आप से तुम हुए ...........फिर गुम हो गए ....

मुद्दतों बाद ......आज मिले

लफ़्ज़ों ने कहा आप कहाँ खो गए ?
नज़रों ने कहा आप बूढ़े हो गए 
दिमाग ने कहा अब तक कहाँ रह गए ?
जिगर बेसब्र खीज के बोला ....
कबख्तों चुप हो जाओ 
हमें अकेला छोड़ दो 
हम हम उम्र हो गए .

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...