रविवार, 31 जनवरी 2016

बहुत उदास हो जाती हूँ ......

जब कभी मेरे शब्द
दूसरों तक पहुँचने से पहले ही
ग़लतफ़हमी के
बादलों को पार करते हुए
जख्मी हो जाते हैं
अपना प्रारूप खो देते हैं
और उन तक जो पहुँच पाता है
वो......
मेरी सोच ,
मेरे व्यक्तित्व के बिलकुल परे
प्रतीत होता है
मेरी कल्पना सेदूर
शायद .....
बहुत ही दूर

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...