शुक्रवार, 29 जनवरी 2016

ये आँखें......

इतना कुछ कह जाती हैं .....ये आँखें  
कि अंतस में .......
जलते लफ़्ज़ों के लिए 
जगह ही नहीं बचती 
इक शोर .....बस खुद में 
अपने आप का .....
अपने आप से

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

सादगी

सादी सी बात सादगी से कहो न यार ....   जाने क्या क्या मिला रहे ..... फूल पत्ते   मौसम बहार सूरज चाँद रेत समंदर दिल दिमाग स...