शनिवार, 30 जनवरी 2016

शुक्रगुज़ार हूँ.......

शुक्रगुज़ार हूँ तेरी पनाहों की
तेरे संग गुज़रती राहों की
मेरे लिए अनमोल फरिश्ता है तू
मेरी हर ख्वाइश में रंग भरता है तू
तू पतंग तेरी डोर हूँ मैं
बेफिक्र रह सिर्फ तेरी और हूँ मैं
सज़दा उन पलों का हम तुम्हारे हुए
फक्र उन लकीरों का आप हमारे हुए
शिकन और सुखं स्वाद चखे हैं तुझ संग
इत्मीनान है सुर्ख है हमारे इश्क का रंग
तू सीप मुझे मोती सा ढांके रखना
अनमोल सा यूँ ही आंके रखना

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...