शनिवार, 30 जनवरी 2016

ज़िन्दगी.....

दोनों बाहें खोल कर .....
"ज़िन्दगी" का ......इस्तकबाल करती हूँ 
खुश हूँ.....
ज़िन्दगी को "पशोपेश" में डाल कर
कि.....
 वो .....आ रही है ?
या 
जा .......रही है ?

"ज़िन्दगी की ......कश्मकश" 
या ....
"कसमसाहट .....ज़िन्दगी की"
  क्या ......कहूँ?

© कल्पना पाण्डेय

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

हमेशा....

तुमने हर बार मुझे कम दिया और मैंने हर बार उससे भी कम तुमसे लिया। ना तुम कभी ख़ाली हुए .... ना मैं कभी पूरी हुई। हम यूँ ही बने रहें....हमेश...