सोमवार, 25 जनवरी 2016

सफ़हे......

दिन के हर सफ़हे को .....पलट पलट के देखा 
सारी शाम को .....खरोंच खरोंच के देखा
इस रात को .......उधेड़ कर रख दिया 
हैरत में हूँ …
तुम कहीं नहीं मिले
नाराज़ हो क्या ?

  कल्पना पाण्डेय

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...