रविवार, 31 जनवरी 2016

नज़दीकियां

ये ज़मीं भी चाहिए
ये आसमान भी
और
इनकी दूरियां नापने को
तेरी नज़दीकियां भी

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

पूर्ण विराम

रुकने के लिए मेरे पास पूर्ण विराम भी था पर तुम ज्यादा पूर्ण थे....मेरे विराम के लिए।