रविवार, 31 जनवरी 2016

मौन......

सबको मृत्युपरांत
दो मिनट का मौन देते हैं
तुम्हें दो साल का मौन दे रखा है 
इससे ज्यादा
कुछ है ही नहीं
हम
लाचारों के पास

इस बुज़दिल ज़मी पर
रहने से बेहतर हुआ
तुम
उस आसमान में खो गयी
कुछ एक के लिए
अब तक
कराह रही हो
बाकि सब के लिए तो
कब की सो गयी .

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

बाँसुरी....

दिल के तीन खानों में उसकी प्रेमिकाएं जीवंत रहती और चौथे खाने में वो अपने परिवार के साथ खुशी खुशी रहता था। बचपन में एक pied piper की कहानी...