रविवार, 31 जनवरी 2016

मौन......

सबको मृत्युपरांत
दो मिनट का मौन देते हैं
तुम्हें दो साल का मौन दे रखा है 
इससे ज्यादा
कुछ है ही नहीं
हम
लाचारों के पास

इस बुज़दिल ज़मी पर
रहने से बेहतर हुआ
तुम
उस आसमान में खो गयी
कुछ एक के लिए
अब तक
कराह रही हो
बाकि सब के लिए तो
कब की सो गयी .

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...